The Sixth string Analogy

I have devised a simple analogy based on the sixth string football matches played in the training academies to explain the daily working of the organisation. It explains the complex working and allows one to maintain sanity. Sharing it for the greater good. Sixth String is an elite group which is formed based on aContinue reading “The Sixth string Analogy”

I am the dusk

I am the duskthen it will be darkfiery ball coolsweary of the scorching daysliding down rapidlypulling the rays downpausing briefly at the rimJust for one last look at its creationbefore it is nightlast stroke of golden brushpaints the sky crimsonI am the duskslowly turning darklast rays lingers on my wingswarming it up, keeping it aliveitContinue reading “I am the dusk”

Aaj Vela hoon

आज अकेला हुंसुबह से वेला हूंदुनिया को बचानेअपने घर पे सोयेला हूं भ्रमण कर आजघर वापस आया हूंकश्मीर से कन्याकुमारी का सफरवास्तव में कर आया हूं इंसान को ६ फीट दूर से देखा तोथोड़ा डरा हुआ पाया हैहर आंखों में शक और कौफ का साया भरपूर नजर आया है इस नासूर वायरसका वास्ता है डरContinue reading “Aaj Vela hoon”

दीवार पे तस्वीर

दीवारों पे टंगी तस्वीर नेबेजुबान कई कहानियांअतीत की आवाज़ चुरा करआज मुझे सुनाया है कैद कर वो लम्हातस्वीरों के बेजान पन्नों परफिर आज जैसेवही एहसास लौट आया है नज़र धुंधला गई हैआंखे नम हो गई हैतस्वीर वहीं दीवार पे थम गई हैपर अरमानों ने उड़ान भर ली है समय की सूइयों कोमोड़ने का ख्याल आयाContinue reading “दीवार पे तस्वीर”